Shri Vindheshwari Chalisa in hindi || mp3|| download

                               चालीसा:-

                    श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा


             Shri Vindheshwari Chalisa 


  

                    श्री विन्ध्येश्वरी चालीसा 

      (Shri Vindheshwari Chalisa in hindi )









                               || दोहा ||




                              || चौपाई ||


   जय जय जय विन्ध्याचल रानी.
bhakti आदि शक्ति जग विदित भवानी.rath

   सिंहवाहिनी जय जग माता.bhakti जय जय जय त्रिभुवन सुखदाता.rath

   कष्ट निवारणी जय जग देवी.bhakti जय जय जय सन्त असुर सुर सेवी.rath

   महिमा अमित अपार भवानी.bhakti शेश सहस मुख वर्णत हारी.rath


   दीनन के दुःख हरत भवानी.bhakti नहिं देख्यो तुम सम कोई दानी.rath

   सब पर मनसा पुरवत माता.bhakti महिमा अमित जगत विख्याता.rath

   जो जन ध्यान तुम्हारो लावे.bhakti सो तुरतहिं वांछित फ़ल पावे.rath

   तू ही वैश्णवी तू ही रुद्राणी,bhakti तू ही शारदा अरु ब्रह्माणी.rath


   रमा राधिका श्यामा काली,bhakti तू ही मातु सन्तन प्रतिपाली.rath

   उमा माधवी चन्ड़ी ज्वाला,bhakti बेगि मोहि पर होहु दयाला.rath

   तू ही हिंगलाज महारानी,bhakti तू ही शीतला अरु विज्ञानी.rath

   दुर्गा दुर्ग विनाशिनी माता,bhakti तू ही लक्ष्मी जग सुखदाता.rath

   तू ही जाहनवी अरु उत्राणी.bhakti हेमावति अम्बा निर्वाणी.rath

   अश्टभुजी वाराहिनी देवा.bhakti करत विष्णु शिव जाकर सेवा.rath

   चौसठ देवी कल्यानी.bhakti गौरी मंगला सब गुणखानी.rath

   पाटन मुक्ता दन्त कुमारी.bhakti भद्रकाली सुन विनय हमारी.rath

   वज्रधारिणी शोक नाशिनी.bhakti आयु रक्षिणी विन्ध्यवासिनी.rath

   जया और विजया बैताली.bhakti मातु संकटी अरु विकराली.rath

   नाम अनन्त तुम्हार भवानी.bhakti बरनै किमी मानुश अज्ञानी.rath

   जा पर कृपा मातु तव होई.bhakti तो वह करै चहै मन जोई.rath

   कृपा करहु मो पर महारानी.bhakti सिद्ध करिए अब म्म बानी.rath

   जो नर धरै मातु पर ध्याना.bhakti ताकर सदा होए कल्याना.rath

   विपति ताहि सपनेहु नहिं आवै.bhakti जो देवी का जाप करावै.rath

   जो नर कहं ऋण होय आपारा.bhakti सो नर पाठ करै शत बारा.rath

   निश्चय ऋण मोचन होई जाई.bhaktiजो नर पाठ करै मन लाई.rath

   अस्तुति जो नर पढ़ै पढ़ावै.bhakti या जग में सो अति सुख पावैrath

   जा को व्याधि सतावै भाई.bhakti जाप करत सब दूर पराई.rath

   जो नर अति बन्दी महं होई.bhakti बार हजार पाठ कर सोई.rath

   निश्चय बन्दी ते छुटि जाई.bhakti सत्य वचन मम मानहु भाई.rath

   जा पर जो कछु संकट होई.bhakti निश्चय देविहिं सुमिरै सोई.rath

   जा कहँ पुत्र होय नहि भाई.bhakti सो नर या विधि करे उपाई.rath

   पाँच वर्ष सो पाठ करावै.bhakti नौरातन में विप्र जिमावै.rath

   निश्चय गोहिं प्रसन्न भवानी.bhakti पुत्र देहिं ताकहँ गुणखानी.rath

   ध्वजा नारियल आनि चढ़ावै.bhakti विधि समेत पूजन करवावै.rath

   नित प्रति पाठ करै मन लाई,bhakti प्रेम सहित नहिं आन उपजाई.rath

   यह श्री विन्ध्याचल चालीसा.bhakti रंक पढ़त होवे अवनीसा.rath

   यह जानि अचरज मानहुं भाई.bhakti कृपा दृष्टी जापर होई जाई.rath

   जय जय जय जगमात भवानी.bhakti कृपा करहू मोहिं पर जन जानी.rath

   जय जय जय जगमात भवानी.bhakti कृपा करहु मोहि पर जानी.rath

               यह पोस्ट भी जरूर देखिये :-








Post a Comment

0 Comments