Ads Here

Monday, January 4, 2021

गांगुली बोले, अब होगा कड़ा मुकाबला

 गांगुली बोले, अब होगा कड़ा मुकाबला

इंजमाम ने कहा सीरीज पर भी कर सकते हैं क4जा

भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने तीसरे वन-डे मैच में पूरी तरह पाकिस्तान के दबदबे को स्वीकारते हुए कहा कि बचे हुए तीन वन-डे मुकाबलों में काफी नजदीकी मुकाबला होगा। पाक के सीरीज में पहली जीत हासिल करने के बाद गांगुली ने कहा, ‘पाक ने हमें मैच की पहली ही गेंद से गेम से बाहर कर दिया था और लक्ष्य का पीछा करते हुए शुरुआत में ही विकेट गंवाने के बाद हम वापसी करने में नाकाम रहे।’ उधर, पाक कप्तान इंजमाम उल हक ने इस जीत के प्रदर्शन को जारी रखते हुए सीरीज पर क4जा जमाने की बात कही है।गांगुली ने कहा कि पाकिस्तान के तीन सौ के आंकड़े को पार करने की वजह से उनकी टीम दबाव में आ गई और पहले पंद्रह ओवर में अहम विकेट खोने से उनके लिए कोई मौका नहीं रह गया था। उन्होंने कहा, ‘किसी 5ाी विकेट पर ३२० रन का लक्ष्य काफी मुश्किल होता है। हमने आफरीदी को जल्द आउट कर दिया था लेकिन पाक बल्लेबाज लगातार अंतराल के बाद चौके मारते रहे। इस विकेट पर २८०-२९० रन का स्कोर भेदा जा सकता था लेकिन शुरुआती विकेट गिरने से संभलना कठिन होता है।’ भारतीय कप्तान का कहना है कि आखिरी तीन मुकाबले काफी कड़े होंगे और जो टीम दबाव से उबर जाएगी वही विजेता होगी।

दूसरी तरफ, पाकिस्तानी कप्तान इंजमाम ने अपने खिलाडिय़ों के प्रदर्शन की तारीफ करते हुए कहा कि यदि वे कड़ी मेहनत जारी रखते हैं और एकजुट होकर खेलते हैं, तो उनके पास सीरीज जीतने का मौका है। इंजमाम ने कहा, ‘सीरीज अभी पूरी तरह खुली हुई है। यदि हम कड़ी मेहनत करते हैं और एकजुट रहते हैं, तो हम सीरीज जीत सकते हैं। हमें इस जीत की बहुत दरकार थी और मैं अपने खिलाडिय़ों के खेल से काफी 2ाुश हूं। पिछले दो मुकाबलों हम सामूहिक प्रयास करने में विफल रहे थे, लेकिन इस बार सबने बढिय़ा प्रदर्शन किया।’

इंजमाम ने राणा नवेद उल हसन और मोह6मद सामी की जमकर प्रशंसा करते हुए कहा कि दोनों ने शुरुआती विकेट चटकाकर मैच में पाक का दबदबा कायम करवा दिया। पाक कप्तान ने वीरेंद्र सहवाग को शुरू में ही पेवेलियन भेजने को टर्निंग प्वाइंट बताते हुए कहा, ‘पिछले दो मैचों में वह काफी उ6दा खेले और दोनों टीमों के बीच वहीं एकमात्र अंतर थे। लिहाजा हमने उनके खिलाफ रणनीति बनाई थी, जो कारगर साबित हुई।’

इंजमाम ने एक बार फिर भारतीय कप्तान का पक्ष लेते हुए कहा कि हर क्रिकेटर के कैरियर में ऐसे मौके आते हैं। मुझे इसका अहसास है। लेकिन मुझे यह ठीक नहीं लगता कि उनकी बल्लेबाजी और कप्तानी को मिलाकर कोई बात की जाए। कोई भी बल्लेबाज हो, उसे इस स्थिति का सामना करना पड़ता है।

वीरू का विकेट था अहम : राणा

‘करो या मरो’ वाले मुकाबले में अपने कैरियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राणा नवेद उल हसन के सबसे अहम विकेट के बारे में किसी को भी अधिक सिर खफाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। 1योंकि हर कोई जानता है कि दौरे में वीरेंद्र सहवाग पाक टीम का सिरदर्द बने हुए थे। बकौल राणा, ‘मैं शुरुआत में ही सहवाग का विकेट मिलने से काफी 2ाुश था 1योंकि वह काफी 2ातरनाक बल्लेबाज हैं और फिलहाल वह अपने उ6दा फॉर्म में हैं। सभी छह विकेटों में उनका विकेट काफी संतोषजनक रहा।’भारतीय पारी के दूसरे ही ओवर में सहवाग को पेवेलियन की राह दिखाकर हजारों भारतीय दर्शकों को निराश करने वाले राणा ने कहा, ‘निश्चित ही यह मेरे लिए यादगार और कैरियर की सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी रही। मेरी गेंदबाजी के बूते पाकिस्तान के मैच जीतने से मैं काफी खुश हूं।’ २७ वर्षीय नवेद स्पीडस्टर शोएब अ2तर के चोटिल होने के बाद पाक टीम के लिए नई गेंद संभाल रहे हैं और कहते हैं कि अपनी इस नई जि6मेदारी का वह पूरा लुत्फ उठा रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘मैंने शोएब भाई और दूसरे किसी गेंदबाज को टीम में अपनी जगह को चुनौती देते हुए नहीं देखा है। मैंने उनके फिट होने और भारत आने की खबर के बाद भी कभी असुरक्षा महसूस नहीं की। मैं टीम के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहता हूं। मैंने वकार भाई से सीखा है कि कभी भी असुरक्षित महसूस नहीं करो।’

इतिहास बनाने को उतरेंगी भारतीय महिलाएं

आस्टे्रलिया के साथ फाइनल आज

सेमीफाइनल में मौजूदा चैंपियन न्यूजीलैंड को हराकर पहली दफा विश्व कप फाइनल में पहुंचीं भारतीय महिलाएं रविवार को यहां होने वाले खिताबी मुकाबले में चार बार के चैंपियन आस्टे्रलिया को हराकर वह कारनामा करना चाहेंगी जो दो साल पहले भारत की पुरुष टीम इसी जगह पर इसी प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ नहीं कर पाई थी।भारतीय महिलाओं ने टूर्नामेंट में अबतक केवल एक मैच गंवाया है। इसमें कोई शक नहीं कि टीम का मनोबल आसमान छू रहा है लेकिन न्यूजीलैंड के खिलाफ ९१ रनों की मैच जिताऊ पारी खेलने वाली कप्तान मिताली राज की फिटनेस को लेकर भारतीय खेमा थोड़ा परेशान है। हालांकि घुटने की चोट से पीडि़त मिताली साफ कर चुकी हैं कि वह हर हाल में फाइनल खेलेंगी।

अहम खिताबी भिड़ंत से पहले मिताली ने शनिवार को कहा कि फाइनल तक के सफर में प्रत्येक खिलाड़ी ने बराबर भूमिका निभाई है लिहाजा रविवार को भी सबको अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा। मिताली टूर्नामेंट में अब तक ६५ के औसत से सर्वाधिक १९३ रन बटोर चुकी हैं। उनके अलावा वरिष्ठ बल्लेबाज अंजुम चोपड़ा ४२.५ के औसत से १७० रन बना चुकी हैं। भारतीय खेमे को इन दोनों से काफी उ6मीदें हैं।

भारतीय गेंदबाजों ने अबतक बेहतरीन प्रदर्शन किया है। नीतू डेविड, झुलन गोस्वामी व अमिता शर्मा सर्वाधिक विकेट लेने वालों की तालिका में शामिल हैं। डेविड ने अब तक १९ विकेट लिए हैं जबकि शर्मा व गोस्वामी क्रमश: १३ व १२ विकेट ले चुकी हैं।

दूसरी तरफ अपना सातवां फाइनल खेलने के लिए तैयार आस्टे्रलियाई टीम चार-चार विश्व कप खेल चुकीं कप्तान बेलिंडा 1लार्क व पेसर कैथरीन फिट्जपैट्रिक के प्रदर्शन पर भरोसा करेगी। फिट्जपैट्रिक प्रतियोगिता में सबसे तेज गेंदबाज हैं लिहाजा भारतीय टीम को उनसे सावधान रहना होगा। दोनों देशों के बीच अबतक २१ मैच हुए हैं जिसमें से १७ बार आस्टे्रलिया की जीत हुई है। ऐसे में पहला खिताब जीतने के लिए मिताली राज की टीम को एक लगभग असंभव से दिखने वाले काम को संभव बनाने के लिए काफी मेहनत करनी होगी। एजेंसी

टीमें इस प्रकार है :

भारत : मिताली राज (कप्तान), जया शर्मा, हेमलता काला, नीतू डेविड, नौशीन अल कादिर, अमिता शर्मा, दीपा मराथे, रूमेली धर, अरूंधती किरकिरे, अंजू जैन (विकेटकीपर), झुलन गोस्वामी, अंजुम चोपड़ा, करुणा जैन, रीमा मल्होत्रा।

आस्टे्रलिया : बेलिंडा 1लार्क (कप्तान), केरेन रोल्टन (उपकप्तान), एले1सी 4लैकवेल, केट 4लैकवेल, लूसी ब्रॉडफुट, केथरीन फिट्जपैट्रिक, जूली हाएस, मेलेनी जोंस, लिसा केइट्ले, शैली निश्चे, जुलिया प्राइस, 1ली स्मिथ, लीसा शॉल्कर, ए6मा ट्विनिंग।

No comments:

Post a Comment