Ads Here

Tuesday, January 5, 2021

अध्यापकों ने की शिक्षामंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी

 अध्यापकों ने की शिक्षामंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी

हिमाचल राजकीय अध्यापक संघ के प्रदेशाध्यक्ष रोशन लाल शर्मा ने आरोप लगाया कि शिक्षामंत्री नेसाढ़े चार साल के कार्यकाल में राजनीतिक आधार पर अध्यापकों के तबादले करने के अलावा शिक्षा सुधार के नाम पर कुछ नहीं किया है। सालों से खाली पड़े अध्यापकों के पदों को भरने के लिए सरकार ने कोई प्रयास नहीं किया है। वह यहंा शिक्षा उप निदेशक कार्यालय के बाहर अपने १५ सूत्रीय मंागपत्र के समर्थन में आयोजित धरने पर बैठे अध्यापकों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि अध्यापकों की पदोन्न्ति में देरी से शिक्षा का क्षेत्र परेशानी के दौर से गुजर रहा है। शर्मा ने आरोप लगाया कि चार सालों में स्कूलों के लिए न तो फर्नीचर खरीदने की अनुमति दी गई है और न हीं प्रयोगशालाओं के लिए उपकरण, पुस्तकें खरीदने पर ध्यान दिया गया है। उन्होंने आरोप लगया कि शिक्षा मंत्री तबादला मंत्री बन कर रह गए हैं।

उन्होंने शिक्षामंत्री को आज तक के सबसे नकारा शिक्षामंत्री करार देते हुए मु2यमंत्री से उन्हें तुरंत पद से हटाने की मंाग की है। उन्होंने धरने पर बैठे अध्यापकों से ११ नवबंर की प्रदेशस्तरीय रैली में बढ़ चढक़र भाग लेने का आह्वान करते हुए संकल्प दोहराया कि संघ अपनी मंागों को मनवाने के लिए किसी भी बलिदान को तैयार है। इस मौके पर संघ के प्रदेश महासचिव शिवदयाल चौधरी, वरिष्ठ उपप्रधान निर्मल दुनेरिया, जिला प्रधान पयारू राम संा2यान समेत जिले के विभिन्न खंडों से आए अध्यापकों ने भी अपने विचार रखे। धरने पर बैठे अध्यापकों ने सरकार व शिक्षामंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए एक ज्ञापन शिक्षा उप निदेशक के माध्यम से सरकार को भेजा।

जेसीटी ने महिंद्रा को ६-२ से रौंदा

अनुभवी स्ट्राइकर जो पॉल अंचेरी के तीन गोल की बदौलत जेसीटी फगवाड़ा ने राष्ट्रीय फुटबाल लीग में शानदार जीत दर्ज की। गुरुनानक स्टेडियम में रविवार को जेसीटी ने महिंद्रा यूनाइटेड को ६-२ से रौंद दिया। जेसीटी की टीम ने आज तेजतर्रार फुटबाल का मुजाहिरा किया। महिंद्रा की टीम ने जवाबी हमले कर मेजबान टीम को चौंकाने की कोशिश की। लेकिन फगवाड़ा के गोलकीपर मंसूर मोह6मद के शानदार बचाव कर विपक्षी फारवर्डों को निराश किया। मंसूर मैन ऑफ द मैच रहे।दूसरे मिनट में जेसीटी के विजयन के सुंदर पास को जसविंदर सिंह ने गोल के जाल में उलझाने में कोताही नहीं की। १२वें मिनट में अंचेरी ने फ्री किक पर गोल दाग कर जेसीटी की बढ़त २-० कर दी। २८वें मिनट में महिंद्रा के ईडेन जोश ने आरसी प्रकाश के पास पर गोल किया। मध्यांतर तक जेसीटी २-१ से आगे थी।

५४वें मिनट में अंचेरी ने अपना दूसरा गोलकर जेसीटी की बढ़त को ३-१ कर दिया। ५८वें मिनट में जेसीटी के हरविंदर सिंह ने एक और गोल ठोंका। ६०वें मिनट जेसीटी के मोंग्बा एबी ने महिंद्रा की ओर से एक गोल कर गोल अंतर कम किया। जेसीटी के हरविंदर सिंह ने ७८वें मिनट में स्कोर ५-२ कर दिया। ९०वें मिनट में अंचेरी ने अपना तीसरा गोल दाग कर जेसीटी को ६-२ से मजबूत स्थिति में ला दिया।

त्रिशूल दीक्षा कार्यक्रम खारिज किया

विहिप का अयोध्या को लेकर पलटवार

उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने शुक्रवार को विश्व हिंदू परिषद को त्रिशूल दीक्षा कार्यक्रम चलाने के लिए जमकर आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि इससे विहिप की छवि पर बुरा असर पड़ा है। आरएसएस से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी दी। संघ परिवार द्वारा अनुषंगी संगठनों और सरकार के बीच समन्वय बढ़ाने के उद्देश्य से बुलाई गई चिंतन बैठक का शुक्रवार को दूसरा दिन था।समन्वय के स्थान पर अनुषंगी संगठनों का एक दूसरे की कमजोरियों को गिनाने पर जोर रहा। सूत्रों के अनुसार आडवाणी ने बैठक में अपने संक्षिप्त भाषण में आश्चर्य जताया कि विहिप 1यों अपने लिए त्रिशूल बांटने वाले संगठन की छवि बनाने पर तुल गई हैै। उन्होंने साथ ही पूछा कि आखिर इससे विहिप को 1या लाभ हासिल हो सकता है। आडवाणी ने जानना चाहा कि विहिप ने अनजाने में यह कार्यक्रम शुरू किया है या सब कुछ सोचा समझा हुआ है। उन्होंने साथ ही चेताया कि यह विहिप ही है जो दूरदराज के क्षेत्रों में छात्रों को शिक्षा देने के लिए एकल विद्यालय (एक शिक्षक वाले विद्यालय) जैसी परियोजनाएं चला रही है। विहिप को अपने ऐसे सकारात्मक पहलुओं को उबारने पर अधिक ध्यान देना चाहिए।जिस समय आडवाणी भाषण दे रहे थे, उस समय विहिप नेता अशोक सिंघल और प्रवीण तोगडिय़ा भी वहां मौजूद थे। उन्होंने इस मुद्दे पर किसी तरह की प्रतिक्रिया व्य1त नहीं की। हां, उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के मुद्दे को लेकर भाजपा को जरूर कठघरे में खड़ा किया।

विहिप नेताओं ने यह स्थापित करने की कोशिश की कि अयोध्या मसले को लेकर स8ाा में आई भाजपा, अब खुद को धर्मनिरपेक्ष साबित करने के च1कर में मंदिर निर्माण के लिए पूरी कोशिश नहीं कर रही है।

सूत्रों के मुताबिक संघ और विहिप के नेताओं ने भाजपा के सामने यह साफ करने की कोशिश की कि भाजपा के लिए भले ही हिंदुत्व का मुद्दा अहमियत खो रहा हो, लेकिन संघ के लिए यह हमेशा प्रासांगिक बने रहने वाला मुद्दा है। शाम को उसी अंदाज में संघ नेताओं ने आॢथक नीति पर भी भाजपा को लपेटा। स्वदेशी जागरण मंच व भारतीय मजदूर संघ के नेताओं ने यह साबित करने की कोशिश की कि केंद्र सरकार की आॢथक नीति पूरी तरह जन विरोधी है।

दूसरे दिन की चर्चा किस कदर संवेदनशील थी, इसका अंदाजा संघ के नेताओं की चुप्पी से लगाया जा सकता है। पहले दिन संघ की ओर से बाकायदा प्रेस ब्रीफिंग की गई थी, लेकिन शुक्रवार को जानकारी लीक करने की स2त मनाही थी।


No comments:

Post a Comment